आरडी बर्मन के गीतों में बेस गिटार की भूमिका

RD Burman songs

Image source unknown. Write to myselfATproaudienceDOTcom for any copyright violations you might want claim about it.

What role did bass guitar play in RD Burman songs? How much did he rely on similar other instruments for creating his compositions? A brief talk in Hindi.

बरसों पहले अहमदाबाद के एक कैफे में किसी स्थानीय बैंड का संगीत सुनने को मिला। दुर्भाग्य से गायक जितना बेसुरा था संगीत उससे भी कहीं ज्यादा अप्रियकर। अक्सर विदेशी संगीत के भारतीय नकलची बेहद ही बेसुरे सुनाई देते हैं। कहीं बेहतर होता यदि वे नकल की बजाय, पश्चिमी संगीत को भारतीय सुरों में मिला अपने ही अंदाज में प्रस्तुत या इंप्रोवाइज करते, कि जैसा सत्तर से ले कर अस्सी के मध्य तक किशोर कुमार, आरडी बर्मन तथा आशा भोंसले की तिकड़ी किया करती थी, वो भी बड़े बेहतरीन अंदाज में।

तो उस शाम मैंने अपने साथ बैठे एक मित्र से, कि जो इत्तफाकन स्वयं भी एक मँझा हुआ गिटारिस्ट हुआ करता था, उस बेसुरे संगीत का रहस्य जानना चाहा। गायक का बेसुरा होना तो जगजाहिर था, लेकिन संगीत में कौन-सी कमी थी ये समझाना जरा मुश्किल हो रहा था। परकसन और गिटार दोनों ही मौजूद थे…  और शायद कीबोर्ड भी, लेकिन उस संगीत में फिर भी कोई भारी खामी लगातार महसूस हो रही था। तो मेरे मित्र ने समझाया, कि उनके पास बेस या रिधम गिटार की कमी है तथा उसके बिना लीड गिटारिस्ट एवं ड्रमर का सामंजस्य पूरा करना मुश्किल हो रहा है। दूसरे शब्दों में उस संगीत में मेलोडी को ड्रम्स के साथ जोड़ने वाली ध्वनियों की भारी कमी थी।

संगीत का यह छोटा सा पाठ बाद के वर्षों में मेरे लिए काफी मददगार साबित हुआ, खास कर आरडी बर्मन के संगीत को समझने में। गौरतलब है, कि बर्मन के संगीत में रिधम की हमेशा ही एक विशेष भूमिका हुआ करती थी। यहाँ तक कि बेस गिटार एवं लय को समृद्ध करने वाले कई अन्य वाद्ययंत्रों की उपस्थिति होने के कारण ही उनके संगीत को पहचान पाना, बाद के वर्षों में, मेरे लिए बड़ा ही आसान कार्य हो गया। उस एक छोटे से सबक मात्र की वजह से। लेकिन इस क्षमता को विकसित करने के लिए मुझे सबसे पहले रिधम, खास कर बेस गिटार की झनकारों को, पूरे संगीत से अलग करके सुन पाने की काबीलियत को विकसित करना पड़ा, जो कि एक सामान्य संगीत श्रोता के लिए इतना भी आसान नहीं था।

ये किसी से छिपा नहीं, कि आरडी बर्मन को किसी भी पदार्थ या परिष्कृत साधन से संगीत बनाने में महारत हाँसिल थी, तथा इनमें से कई वाद्ययंत्र बेस गिटार के साथ मिल कर संगीत को लयबद्ध करने में उनकी मदद करते थे, कि जो नीचे दर्शाए वीडियो से भी स्पष्ट होता है। लेकिन क्या पंचम ने बेस गिटार को ही अपनी लयबद्धता का एक प्रमुख अंग बना लिया था, ये कहना मुश्किल है। उसके लिए तो व्यावसायिक संगीतकारों अथवा फिल्म इतिहासकारों की राय लेनी होगी। मेरी सामान्य समझ से यदि पूरा नहीं तो आरडी बर्मन के संगीत में बेस गिटार की कुछ तो भूमिका अवश्य दिखाई देती है, खास कर अन्य संगीतकारों की तुलना में।

Check Out : RD Burman’s Pedaal Matka Effect – Courtesy of Euphony India

यदि हम लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल या कल्याणजी-आनंदजी के संगीत की आरडीबी के हिंदी गीतों से तुलना करें, तो इस बेस गिटार वाली धारणा को और भी अधिक बल मिलता है। खास कर लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के गीतों में परकसन की कुछ जानी-पहचानी बीट्स के उपरांत उनको संवृद्ध करने वाले अन्य वाद्ययंत्रों की अनुपस्थिति को बेहद आसानी से महसूस  किया जा सकता है। लक्ष्मी-प्यारे का अधिकतम ध्यान मेलोडी को ही और उत्कृष्ट बनाने पर केंद्रित रहा करता था. दूसरी तरफ कल्याणजी-आनंदजी के गीतों में गिटार एवं दूसरे पश्चिमी वाद्ययंत्रों का इस्तेमाल भले ही प्रचुरता से किया जाता रहा हो (मसलन डॉन फिल्म का ये गीत), लकिन उसमें वो संवेदनशीलता या बारीकी कदापि दिखाई नहीं देती, कि जिसके लिए आरडीबी को हमेशा से ही सराहा जाता रहा है।

शायद आरडी बर्मन की ये लय वाली महारत ही थी, कि जिसने उनको सत्तर के दशक में बॉलीवुडिया संगीत का बेताज बादशाह बना डाला था। तथा इसमें उनकी बेस गिटार की समझ ने भी चारचाँद ही लगाया होगा, ऐसा माना जा सकता है। यहाँ याद रखना होगा, कि पंचम ने लीड गिटार या मेलोड़ी का भी उतना ही बेहतरीन उपयोग किया है, कि जितना वे बेस गिटार या रिधम का किया करते थे. तथा इसका सबसे बड़ा उदाहरण है शोले की टाइटल थीम। लेकिन बेस गिटार का उनके संगीत की लयबद्धता के दृष्टिकोण से एक अलग ही महत्त्व है, इस बात को भी हमें स्वीकारना होगा।

Check Out : Sholey Title Theme / Original Guitar Played By Bhanu Da/ Courtesy Of Shailendra Aher

आइए देखें आरडी बर्मन के कुछ ऐसे गीत, कि जिनमें बेस गिटार के नोट्स कुछ ज्यादा ही मुखरित होते दिखाई देते हैं…

Jaane Jaan Dhoondhta Fir Raha

Ek Main Aur Ek Tu Dono Mile Is Tarah

Jahan Teri Yeh Nazar Hai

तथा कुछ ऐसे हिंदी गाने कि जिनमें बेस गिटार खामोशी से अपना काम करता दिखाई देता है…

Yeh Jo Mohabbat Hai

Aise Na Mujhe Tum Dekho

Tum Saath Ho Jab Apne

(दोस्ताना सलाह : ये सारी चर्चा एक संगीत श्रोता के नजरिए से की गई है, इस लिए इसमें कुछ स्वाभाविक त्रुटियाँ हो सकती हैं। इनमें परकसन तथा लीड गिटार की कुछ ध्वनियों को कभी-कभार बेस गिटार से जोड़ कर देखना भी शामिल हो सकता है। लेकिन व्यापक परिप्रेक्ष्य में, आरडी बर्मन की लय के प्रति देखी जाने वाली प्रतिबद्धता वाली बात से नकारना फिर भी मुश्किल होगा। )

Check out more RD Burman songs here.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *